Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

ऐसी चूत देखी ना थी

Antarvasna, hindi sex kahani: हमारी गली में सुहानी रहा करती थी सुहानी और मेरे प्यार के चर्चे हमारी पूरी कॉलोनी में थे लेकिन सुहानी के पापा का ट्रांसफर हो जाने के बाद सुहानी से मेरा कोई संपर्क ही नहीं हुआ और वह मेरी जिंदगी से दूर चली गई। उस वक्त हम दोनों स्कूल में पढ़ते थे इसलिए मैंने इस बात को भूलना ही ठीक समझा लेकिन जब मेरी मुलाकात प्रतिभा के साथ हुई तो मुझे उससे मिलकर अच्छा लगा। प्रतिभा हमारे ऑफिस में ही जॉब करती है उसने कुछ समय पहले ही ऑफिस ज्वाइन किया था कुछ दिनों के लिए प्रतिभा की ट्रेनिंग होनी थी जो कि करीब 7 दिनों की थी 7 दिन तक प्रतिभा की ट्रेनिंग हुई और उसके बाद वह अब ऑफिस ज्वाइन कर चुकी थी। ऑफिस में उसको मेरा सामने वाला डेस्क मिला जिसमें कि वह काम करती थी जब भी वह सुबह आती तो हमेशा ही मुझे मुस्कुराकर हाय कहा करती थी। यह सिलसिला चलता ही जा रहा था करीब 15 दिन हो चुके थे 15 दिनों बाद मैंने प्रतिभा से कहा कि प्रतिभा मैं तुम्हारे बारे में जानना चाहता हूं तो प्रतिभा भी मुझे कहने लगी कि क्यों नहीं राजेश सर।

मैंने उसे कहा कि तुम मुझे सर मत कहा करो मुझे तुम सिर्फ राजेश कह सकती हो और उस दिन के बाद तो जैसे प्रतिभा और मैं एक दूसरे के इतने नजदीक आ चुके थे कि जब भी हम दोनों एक दूसरे से मिलते तो हम दोनों को ही अच्छा लगता। एक दिन प्रतिभा ने मुझे कहा कि राजेश मुझे तुम्हारी जरूरत है मैंने उसे कहा कि लेकिन तुम्हें मेरी क्या जरूरत है। उसने मुझे बताया कि उसके पापा घर में शराब पीकर आते हैं और वह घर में शोर शराबा करते हैं उसकी मां के साथ भी वह बड़े ही गंदे तरीके से पेश आते थे जिससे कि प्रतिभा काफी ज्यादा परेशान रहती थी इसलिए उस दिन मुझे उसके घर पर जाना पड़ा। मैं जब प्रतिभा के घर पर गया तो प्रतिभा की मां से उस दिन मैं पहली बार ही मिला था प्रतिभा के पिताजी को किसी तरीके से हम लोगों ने काबू में किया और उसके बाद वह सो चुके थे।

मैं उनके घर पर ही था तो प्रतिमा की मां बहुत ही ज्यादा भावुक होकर मुझे कहने लगी कि राजेश बेटा अब तुम्हें क्या बताऊं प्रतिभा हमारी लड़की है और हमें किसी भी चीज की कोई कमी नहीं है लेकिन प्रतिभा के