Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

एक सच्ची घटना-1

indian sex story हैल्लो दोस्तों, आप सभी लोगों को शिवा का नमस्कार। दोस्तों में आज आप सभी को अपनी एक सच्ची घटना और मेरा सेक्स अनुभव बताने के लिए आप लोगों के बीच में आया हूँ, क्योंकि दोस्तों आप सभी की तरह में भी पिछले कुछ सालों से सेक्सी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लेता आ रहा हूँ। दोस्तों मैंने अब तक ना जाने कितनी कहानियाँ पढ़ी है और आज अपनी घटना सुनाना चाहता हूँ। में उम्मीद करता हूँ कि मेरी यह कहानी आप लोगों को जरुर पसंद आएगी और अब में कहानी की तरफ आगे बढ़ता हूँ। दोस्तों यह करीब दो महीने पहले की घटना है और में जमशेदपुर में रहता हूँ, मेरी एक कज़िन भाभी है, जिसका नाम संगीता है। वो दिखने में बहुत ही सुंदर और हॉट सेक्सी लगती है। उसके बूब्स बहुत बड़े आकार के और गोल है, उसकी गांड भी बहुत बड़ी है इसलिए जब भी वो चलती है तो उसके मटकती हुई गांड बहुत ही मस्त लगती है, जिसकी वजह से में उसके गोरे सेक्सी बदन को देखकर हमेशा उसकी तरफ बहुत आकर्षित रहता हूँ और में उसके बारे में सोचकर बहुत बार मुठ भी मार चुका हूँ, लेकिन अब मेरे मन में बस इतनी सी इच्छा बची हुई थी कि एक बार में उसको पकड़कर उसकी चुदाई कर दूँ और में हर दिन उसकी चुदाई के नये नये विचार बनाता रहता हूँ।

फिर भगवान ने एक दिन मेरे मन की उस बात को सुन ही लिया और मुझे उसकी चुदाई का वो मस्त मौका दे दिया में जिसकी तलाश में बहुत लंबे समय से था। दोस्तों करीब दो महीने पहले हमारे किसी करीबी रिश्तेदार की शादी थी और में उन दिनों अपने घर में बिल्कुल अकेले ही था, इसलिए उस शादी में शामिल होने में भी चला गया था। फिर उस शादी में मेरी संगीता भाभी और मेरे चचेरे भैया रमेश भी आए हुए थे, मेरी भाभी ने काले रंग की साड़ी पहनी हुई थी, जिसमें वो बहुत ही मस्त सेक्सी लग रही थी। फिर मेरी चकित नज़र तो उनसे हट ही नहीं रही थी और कुछ देर बाद उनकी गोरी बाहर निकलती हुई छाती को देखकर मेरा लंड अब खड़ा होना शुरू हो गया। अब भाभी को देखकर मैंने अपने आप को बहुत शांत में किया, लेकिन मेरा मन मान ही नहीं रहा था। फिर में उनकी तरफ से अपना ध्यान हटाने के लिए जानबूझ कर दूसरे महमानों मेरे रिश्तेदारों से बातें करने लगा और कुछ ही देर बाद मेरा लंड शांत होकर अपनी जगह पर वापस बैठ गया, लेकिन इतनी ही देर में भाभी मेरे पास आ गई और उन्होंने मुझसे हैल्लो कहा। अब मैंने भी उनको इज्जत देते हुए उनसे हैल्लो कहा और फिर हम दोनों आपस में हंस हंसकर बातें करने लगे, उस समय मेरी नज़र बार बार उनके कुछ ज्यादा बाहर निकलते हुए सुंदर आकर्षक बूब्स पर जा रही थी।

दोस्तों भाभी की उस जालीदार साड़ी के पल्लू से मुझे उनके बूब्स साफ दिखाई दे रहे थे और उस वजह से में तो अब एकदम मदमस्त होने लगा था और ठीक वैसा ही हाल उनकी सुन्दरता को देखकर हर किसी की नजर उन पर ही गड़ी हुई थी, हर कोई घूम घूमकर उसको ही ताड़ रहा था। फिर थोड़ी ही देर के बाद मैंने खाना खा लिया और में अपने मन में अपनी सेक्सी भाभी की चुदाई करने की इच्छा को रखते हुए अपने घर पर वापस जाने के लिए वहां से थोड़ा सा बाहर निकला, लेकिन तभी अचानक से मौसम खराब हुआ और बहुत तेज बारिश होनी शुरू हो गई। दोस्तों में उस शादी में अपनी कार से गया था, लेकिन बारिश इतनी तेज़ थी कि इसलिए कार तक पहुँचते हुए ही में पूरा भीग जाता इसलिए में वहीं पर रुककर कुछ उपाय सोचने लगा। अब थोड़ी देर में मेरे रमेश भैया मेरे पास आ गए और उन्होंने मुझसे कहा कि शिवा जब तुम अब घर जा ही रहे हो, तुम अपनी भाभी (संगीता भाभी) को भी अपने घर पर छोड़ देना। दोस्तों क्योंकि उनका घर भी मेरे घर के पास ही था, इसलिए भैया ने मुझसे यह काम करने के लिए कहा और अब भैया ने मुझसे कहा कि वो आज रात को घर नहीं आ पाएँगे, क्योंकि शादी में बहुत काम है और वो सभी कामो को खत्म करके आ जाएगें।

अब मैंने उनसे कहा कि में तो घर जा रहा हूँ, लेकिन बारिश बहुत तेज़ है और भैया ने उसी समय मुझे एक छाता लाकर दे दिया और उन्होंने मुझसे कहा कि जाओ अब तुम और संगीता घर चले जाओ। दोस्तों में तो भैया की उस बात को सुनकर मन ही मन बहुत खुश हुआ जा रहा था और में सोचने लगा कि थोड़ी देर ही सही, लेकिन में अपनी सेक्सी और सुंदर भाभी को अपने साथ घुमाने ले जा रहा हूँ। फिर में और भाभी दोनों ही छाते के नीचे आ गए और हम दोनों उस कार की तरफ़ आगे बढ़ने लगे और उस समय हवा भी बहुत तेज़ चल रही थी जिसकी वजह से बारिश की कुछ बूंदे हम दोनों पर आ रही थी। अब उस वजह से में अपनी भाभी के और भी ज्यादा पास आ गया और इसी दौरान मेरी कोहनी भाभी के एक बूब्स से जाकर टकरा गई और उसी समय उस मुलायम बूब्स को अपनी कोहनी से छू जाने से मेरे पूरे शरीर में एक अजीब सी सनसनाहट पैदा हो गयी और मेरा लंड एकदम से तनकर खड़ा हो गया। फिर मैंने उस मौके का पूरा पूरा फ़ायदा उठाते हुए अपनी कोहनी को अब उनके बूब्स से दूर नहीं हटाया, में जानबूझ कर अपनी कोहनी से भाभी के बूब्स को अब पहले से ज्यादा दबाने की कोशिश करने लगा, लेकिन वो भी मुझसे कुछ नहीं बोली जिसकी वजह से में बहुत खुश था।

अब भाभी और में बहुत हद तक उस बारिश में भीग चुके थे और फिर हम दोनों कार में बैठ गए और अपने घर की तरफ चल दिए, थोड़ी ही देर में भाभी का घर आ गया, लेकिन उस समय तेज़ आँधी और तूफान की वजह से पूरे शहर की बिजली जा चुकी थी। दोस्तों मेरी भाभी का घर थोड़ा सा पुरानी स्टाइल का बना हुआ है, उसमे नीचे की मंजिल पर मेरे भैया का ऑफिस और माल को रखने के लिए एक गोदाम बना हुआ था और उसकी पहली मंजिल पर उन लोगों का घर था, जिसमें वो लोग रहते थे। अब भाभी ने मुझसे कहा कि शिवा तुम मुझे ऊपर तक छोड़ दो और तुम मेरे साथ बैठकर एक कप कॉफी भी जरुर पीकर जाना। दोस्तों में तो उस समय अकेला था, इसलिए में उनकी उस बात को तुरंत मान गया। फिर जब हम ऊपर की तरफ जाने के लिए सीड़ियों के पास पहुँचे, तब मैंने देखा कि वहाँ पर उस समय बहुत अंधेरा था और इसलिए मैंने अपने मोबाइल को अपनी जेब से बाहर निकालकर उसकी टोर्च को चालू कर लिया और अब भाभी मेरे आगे चलकर सीड़ियों से ऊपर जाने लगी और में उनके पीछे था। दोस्तों वो टोर्च की रोशनी भाभी की गांड पर सीधी पड़ने लगी, जिसकी वजह से मुझे उनकी मटकती हुई गांड को देखकर बड़ा मज़ा आ रहा था और मेरा मन अब धीरे धीरे मचलने लगा था।

तभी अचानक से वो थोड़ा सा लड़ाखड़ाने लगी, लेकिन उसी समय मैंने तुरंत उन्हे पीछे से सहारा दे दिया, जिसकी वजह से अब मेरे दोनों हाथ भाभी की गांड की गोलाई पर थे, मुझे पहली बार अपनी भाभी की गांड को छूकर महसूस करने का मौका मिल गया और में मन ही मन बहुत खुश था। फिर मैंने उन्हे संभालते हुए सीधा किया जिसकी वजह से मैंने अब उनकी गांड के बीच की दरारों को भी छूकर महसूस किया। अब हम लोग कमरे में चले गये, में अब ड्रॉयिंग रूम में बैठ गया और उन्होंने मुझे बारिश का पानी साफ करने के लिए एक टावल लाकर दे दिया और वो खुद भी अपने गीले कपड़े बदलने दूसरे कमरे में चली गयी। फिर थोड़ी ही देर में वो अब एक सिल्की नीले रंग की मेक्सी में मेरे सामने आ गई, उसको उस तरह से मेक्सी में देखकर मेरा बड़ा बुरा हाल हुआ जा रहा था और में मन ही मन सोच रहा था कि कैसे में उनको पकड़कर उनकी चुदाई करूं और में आगे कैसे बढूँ? तभी थोड़ी देर के बाद अपने बेडरूम से उन्होंने मुझे आवाज़ लगाई। अब मैंने उस कमरे में जाकर देखा कि वो अपनी अलमारी में जेवर रख रही थी, में पहुंच गया और मैंने देखा कि पीछे से नीले रंग कि उस मेक्सी में उनकी गांड बड़ी मस्त लग रही थी।

फिर उन्होंने मुझे देखकर मुझसे कहा कि शिवा ऊपर तीसरे हिस्से में एक बेग रखा हुआ है, प्लीज तुम उसे उतार दो, मेरा हाथ वहां तक नहीं जाता, लेकिन वो वहाँ से नहीं हटी। अब में उनके पीछे खड़ा हो गया और उस बेग को नीचे उतारने की कोशिश करने लगा, लेकिन तभी अचानक से मेरा लंड भाभी की गांड से जाकर टकरा गया और उनकी गांड को छू जाने से मेरे पूरे शरीर में एक अजीब सा करंट दौड़ गया और ऊपर खड़े होने की वजह से मुझे उनके कंधे के ऊपर से उनके बूब्स भी अब साफ दिखाई दे रहे थे। अब मैंने अपने आपको शांत किया और अपने लंड को उनकी गांड के बीच दरारों में सेट किया और फिर में वो बेग उतारने के बहाने से उनसे सटकर खड़ा हो गया। अब मुझसे ज्यादा बर्दाश्त नहीं हो रहा था, मैंने मन ही मन में सोचा कि अब मुझे ही आगे बढ़ना होगा उसके बाद जो भी होगा देखा जाएगा और उस समय मैंने पीछे से अपनी भाभी को कसकर अपनी बाहों में जकड़ लिया और में मेक्सी के ऊपर से उनकी गांड में अपने लंड को सेट करके धक्के मारने लगा। दोस्तों मेरा लंड अब मेरी अंडरवियर और पेंट को फाड़कर बाहर निकलने के लिए मचल रहा था। मेरी इस हरकत से भाभी चीखने लगी और वो ज़ोर से चिल्लाते हुए मुझसे पूछने लगी कि तुम यह क्या कर रहे हो?

अब मैंने उनसे कहा कि भाभी किसी को कुछ भी पता नहीं चलेगा और हम दोनों आज इस मौके का पूरा पूरा फायदा उठाकर बहुत मज़े मस्ती करेंगे। अब उन्होंने कहा कि नहीं यह सब गलत है तुम प्लीज अब मुझसे दूर हट जाओ मुझे नहीं करना तुम्हारे साथ कोई भी मज़ा और मस्ती, लेकिन मैंने उन्हे अब पीछे से पहले से भी ज्यादा कसकर पकड़ लिया और फिर में उन्हे समझाने की कोशिश करने लगा। फिर मैंने उनको बहुत कुछ समझाया और तब जाकर मैंने महसूस किया कि अब थोड़ी देर के बाद उनका विरोध पहले से कम हो गया था। अब मैंने तुरंत अपने दोनों हाथ उनके बूब्स पर रख दिए और में उन्हे धीरे दबाने सहलाने लगा था और मैंने उसी समय उनकी उस मेक्सी के बटन को भी खोल दिया और मेक्सी को उतार दिया। अब मैंने देखा कि वो काले रंग की ब्रा और फूलोँ की आक्रति की पेंटी पहने हुई थी और में खुद भी जल्दी से अपने कपड़े उतारने लगा। वो उस समय मेरी तरफ अपनी कमर करके ही खड़ी हुई थी और में पूरा नंगा हो गया। फिर उनकी ब्रा के हुक को मैंने पीछे से खोल दिया और उस समय में पहली बार अपनी भाभी का गोरा गदराया हुआ बदन देखकर बड़ा चकित हुआ।

Best Hindi sex stories © 2017
error:

Online porn video at mobile phone


tamancheydidi ki chudaisex in chennaikahaniyaindian sex storesantarvasna 2017antarvasna gand chudaifree sex storiesantarvasna with bhabhibaap beti ki antarvasnaanita bhabhiincest storiesbhai bahan sexsavita bhabi.comantarvasna in hindi comdesikahaniantravasna.comantarvasna story in hindiantarvasna hindi maantarvasna vidioantarvasna story with picantarvasna in hindihot indian auntiesantarvasna gujratimeena sexantarvasna dot komchudai ki kahaniyaantarvasna story appwww.antarwasna.commastaram.netsali ki chudaiantarvasna hindisex storyantarvasna ki kahani in hindichudai ki kahanitechtudindian sex hotantarvasna 3gpstory antarvasnaindian bhabhi sexantarvasna ki photoantarvasna hindi sexstoryantarvaasnasex stories hindididi ki antarvasnaantarvasna storywww antarvasna com hindi sex storyantarvasna desi sex storieshot storybhabhi ki gandsexy storiesantarvasna picnangiantarvasna sexjungle sexhindi sex.comadult sex storiesantarvasna chudai ki kahaniantarvasna hindi sexstorystory pornantarvasna bollywoodxxx story in hindiwww.antarvasna.commomfucksex story antarvasnaantarvasna chudaisexi momantarvasna . comdesi chudai kahaniantarvasanyouthiapaantarvasna ?????antarvasanantarvasna ristoaunty blouseantarvasna desi sex storiesantarvasna com 2015chut chudaihot sexy boobsantarvasna marathi storyantarvasna bfgujrati sexsex storimummy ki antarvasnagujarati sexhindi sex filmbhabhi antarvasnaantarvasna videohindi sx storyaunty sex imagesindia sex storyhot sex storieschachi ki chudai antarvasnanew desi sexblu filmkhuli baatkahaniyaantarvasna story listdesi sex storyporn antarvasnakahani