Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

मामी लंड पर बैठ गई

Antarvasna, hindi sex kahani: मेरी नौकरी पुणे में लग चुकी थी मैं पुणे का ही रहने वाला हूं और मेरे परिवार में मेरे पिताजी और मां हैं मैं घर में इकलौता हूं। मैं और मेरे दोस्त हमारे कॉलेज टाइम में बहुत ही मस्ती किया करते थे लेकिन अब हम लोगों की मुलाकात काफी कम हुआ करती है मेरी नौकरी लग जाने के बाद मैं अपने दोस्तों से नहीं मिल पाता। एक दिन मेरे दोस्त ने मुझे फोन किया मेरे दोस्त का नाम रमेश है रमेश ने जब मुझे फोन किया तो उससे मेरी उस दिन काफी देर तक बात हुई रमेश मुझे कहने लगा कि गौतम आजकल तुम काफी दिनों से हम से मिले नहीं हो। मैंने रमेश को कहा तुम्हें तो पता ही है कि समय नहीं मिल पाता है इस वजह से तुम लोगों को मैं मिल नहीं पाया हूं।

मैंने रमेश को कहा कि मैं तुमसे मिलने के लिए जरूर आऊंगा तो रमेश कहने लगा कि गौतम ठीक है जब तुम फ्री हो जाओ तो हमसे जरूर मिलना। मैंने भी अब अपने ऑफिस खत्म होने के बाद अपने दोस्तों से मिलने के बारे में सोचा क्योंकि उस दिन मैं अपने ऑफिस से जल्दी आ गया था इसलिए मैंने रमेश को फोन किया और रमेश को मिलने के लिए मैं चला गया। जब हम लोग मिले तो रमेश मुझे कहने लगा कि गौतम तुम तो अपनी लाइफ में कुछ ज्यादा ही बिजी हो गए हो। मैंने रमेश को कहा तुम्हें तो पता ही है कि जॉब लग जाने के बाद मुझे घर आने में कितनी देर होती है जिस वजह से मैं किसी से भी नहीं मिल पाता हूं और एक दिन मेरी छुट्टी होती है उस दिन भी कोई ना कोई काम जरूर होता है तो इसलिए मैं अब तुम लोगों को नहीं मिल पाता। रमेश कहने लगा की गौतम मैं तो काफी दिनों से तुमसे मिलने की सोच रहा था लेकिन तुम अब बहुत बिजी रहते हो और मैं तुम्हारे घर पर भी गया था तो मुझे आंटी ने बताया कि तुम अभी ऑफिस से लौटे नहीं हो।

रमेश ने अपने पापा के साथ उनकी दुकान संभाल ली है रमेश के पापा की गारमेंट शॉप है और अब रमेश ही उसे आगे देख रहा था इसलिए रमेश को तो अपने लिए समय मिल ही जाता था। रमेश ने मुझे बताया कि उसके परिवार वाले उसकी शादी के लिए लड़की देखने लगे हैं तो मैंने रमेश को कहा लेकिन तुम इतनी जल्दी शादी क्यो करना चाहते हो। रमेश कहने लगा कि गौतम अब तुम पापा को तो जानते ही हो पापा काफी पुराने ख्यालात के हैं और उन्होंने तो मेरे लिए लड़की देखनी शुरू भी कर दी है मुझे उन्होंने ना जाने अब तक कितनी लड़कियां दिखा दी हैं। मैंने रमेश को कहा लगता है तुम्हारी भी शादी अब जल्द ही हो जाएगी तो रमेश कहने लगा अब ऐसा ही तुम समझ सकते हो कि मेरी शादी जल्दी हो जाएगी। उस दिन रमेश के साथ मैं काफी देर तक बात करता रहा उसके बाद फिर मैं घर वापस लौट आया। जब मैं घर वापस लौटा तो मेरी मम्मी ने कहा बेटा आज तुम्हारे पापा फोन नहीं उठा रहे हैं तुम अपने फोन से उन्हें कॉल करना। मैंने उन्हें फोन किया तो वह फोन नहीं उठा रहे थे मैंने उन्हें करीब तीन बार फोन किया पर उन्होंने फोन नहीं उठाया लेकिन थोड़ी ही देर बाद वह घर आ गए। जब पापा घर पहुंचे तो मां ने उनसे पूछा कि हम लोग आपको इतनी देर से फोन कर रहे थे लेकिन आप फोन ही नहीं उठा रहे थे पापा कहने लगे कि मेरा फोन मेरे बैग में था इस वजह से मुझे सुनाई नहीं दिया होगा। उस दिन मैं पापा के साथ बैठकर उनसे बात करने लगा तो पापा मुझे कहने लगे कि गौतम बेटा कल तुम्हारे मामा और मामी हमारे यहां आ रहे हैं तो तुम उन्हें लेने के लिए स्टेशन चले जाना। मैंने पापा से कहा पापा लेकिन वह लोग कितने बजे तक आने वाले हैं तो पापा ने कहा कि वह लोग 8:00 बजे के करीब आने वाले हैं। मैंने पापा से कहा ठीक है पापा मैं ऑफिस से आते वक्त ले आऊंगा क्योंकि मैं भी अपने ऑफिस से 7:30 बजे के आसपास ही फ्री होता था तो मैंने पापा से कहा कि मैं उन्हें कल अपने साथ ले आऊंगा। अगले दिन सुबह मैं जल्दी तैयार होकर अपने ऑफिस के लिए निकल चुका था जब मैं अपने ऑफिस पहुंचा तो उस दिन अपने ऑफिस का काम खत्म कर के मैंने अपने मामा जी को फोन किया तो वह कहने लगे बेटा बस थोड़ी देर बाद हमारी ट्रेन पुणे पहुंचने वाली है।

मैंने मामा जी से कहा कि मैं भी आपको रेलवे स्टेशन लेने के लिए आ रहा हूं वह कहने लगे कि ठीक है बेटा तुम हमें लेने के लिए रेलवे स्टेशन आ जाओ। मैं अब अपने ऑफिस से निकल चुका था मेरे ऑफिस से रेलवे स्टेशन की दूरी करीब आधे घंटे की थी और मैं जब रेलवे स्टेशन पहुंचा तो मैंने मामा जी को फोन किया वह कहने लगे बस बेटा थोड़ी देर बाद हम लोग पहुंचने वाले हैं। मैं उनका इंतजार रेलवे स्टेशन के बाहर ही कर रहा था थोड़ी देर बाद उनका फोन आया तो वह कहने लगे कि हम लोग रेलवे स्टेशन पहुंच चुके हैं। वह रेलवे स्टेशन पहुंच चुके थे मैंने उन्हें कहा कि आप लोग रेलवे स्टेशन से बाहर की तरफ आ जाइए मैं बाहर ही खड़ा हूं। वह लोग स्टेशन से बाहर की तरफ आए तो मैं अपने मामा जी को देखकर बहुत खुश हुआ काफी दिनों बाद मैं उनसे मिल रहा था। वह मुझसे कहने लगे कि गौतम बेटा तुम कैसे हो मैंने उन्हें कहा मामा जी मैं तो ठीक हूं लेकिन आप सुनाइए आप कैसे हैं तो वह कहने लगे बेटा मैं भी ठीक हूं बस बूढ़ा हो चुका हूं इसलिए तबीयत ठीक नहीं रहती। मैंने मामा जी से कहा चलिए हम लोग चलते हैं और फिर हम लोग घर चले आए जब हम लोग घर आए तो मम्मी मामा जी से मिलकर बहुत खुश थी। मेरी मामी मां के साथ बात कर रही थी पापा भी अपने ऑफिस से आ चुके थे तो पापा और मामा जी साथ में बैठे हुए थे और वह लोग आपस में बात कर रहे थे।

मैं अपने रूम में चला गया और जब मैं अपने रूम में गया तो मैं अपने ऑफिस का काम करने लगा मैं अपने रूम में ही बैठा हुआ था मां ने मुझे आवाज लगाते हुए कहा कि गौतम बेटा खाना खाने के लिए आ जाओ। मैं भी अब खाना खाने के लिए चला गया और रात को हम सब लोगों ने साथ में बैठकर खाना खाया। खाने की टेबल पर मामा जी ने अपने चुटकुलों से सब लोगों को बड़ा हंसा कर रख दिया था। मामा जी की दूसरी शादी थी इसलिए मामी जी की उम्र उनसे काफी कम है। वह लोग कुछ दिनों तक हमारे घर पर ही रुकने वाले थे लेकिन मामी जी अपने अंदर की गर्मी को बुझाना चाहती थी। मैं भी उनके स्तनों को जब देखता तो मुझे उनके स्तनों को चूसने का मन होता और उनके बड़ी गांड देखकर तो मेरा लंड खड़ा हो जाया करता। मैंने अपने ऊपर काफी कंट्रोल किया हुआ था लेकिन जब मामी मेरे लंड के ऊपर बैठी तो मैं अपने आपको रोक ना सका। मामी ने मेरे लंड को दबा दिया और कहने लगी गौतम तुम्हारा लंड बहुत मोटा है। मैंने उन्हें कहा आपको मेरे लंड को अपनी चूत मे लेना है। वह कहने लगी हां मैं तुम्हारे लंड को अपनी चूत मे लेना चाहती हूं। मेरे लिए इससे अच्छी बात क्या हो सकती थी उन्होंने जब मेरे लंड को अपने मुंह में लिया तो वह कहने लगी तुम्हारे मामा जी की लंड चूसने की आदत पड़ चुकी है लेकिन वह मेरी इच्छा पूरी नहीं कर पाते है। मैंने उनको कहा आप तो बड़ी ही हॉट और सेक्सी है जरा मुझे अपनी चूत तो दिखाइए उन्होंने अपने ब्लाउज को खोला तो मैंने उनके स्तनों को देखा। मैंने जब उसके स्तनों को देखा तो मैं अपने अंदर की गर्मी को बिल्कुल ना रोक सका मैंने उनकी चूत के अंदर लंड डालने का फैसला कर लिया। मैंने उनकी साड़ी को ऊपर करते हुए उनकी चूत के अंदर अपनी उंगली को घुसाना शुरू किया तो वह जोर से चिल्लाई और मुझे कहने लगी मुझे बहुत अच्छा लग रहा है तुम ऐसे ही मुझे मजे देते रहो। मैंने उन्हें कहा मैं आपकी चूत मे लंड घुसा देता हूं मैंने अपने मोटे लंड को उनकी चूत के अंदर डाल दिया मेरा लंड उनकी चूत के अंदर जा चुका था वह मेरा साथ बखूबी निभा रही थी।

उन्होंने मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर तक ले लिया था और जिस प्रकार से वह गर्म सिसकियो से मुझे गरम कर रही थी उससे मै और भी ज्यादा उत्तेजित हो रहा था उन्हें मैं बड़ी तेज गति से धक्के मार रहा था। मुझे उन्हें धक्के मारने में बहुत मजा आ रहा था मैंने काफी देर तक उनको ऐसे ही चोदा फिर मैंने उन्हें कहा आपको धक्के मारने मे बहुत मजा आ रहा है। उन्होंने मेरे लंड को अपनी चूत से बाहर निकाला और अपनी चूतड़ों को मेरी तरफ किया। मैने उनकी चूत के अंदर अपने लंड को घुसा दिया मैं उन्हें चोदने लगा मैं उन्हें जिस प्रकार से चोद रहा था उससे वह बहुत ही ज्यादा उत्तेजित हो रही थी और मेरा साथ बड़े अच्छे से दे रही थी। मेरा लंड उनकी चूत के अंदर बाहर हो रहा था और उनकी बड़ी चूतडो से मेरा लंड टकरा रहा था जिसके बाद मैं गर्म होता चला गया।

मेरी गर्मी इस कदर बढ़ गई मैंने उन्हें कहा मेरा वीर्य गिरने वाला है उन्होंने अपने मुंह के अंदर मेरे लंड को ले लिया और मेरे सारे माल को उन्होंने अपने अंदर ही निगल लिया। मेरे वीर्य को उन्होंने अपने अंदर निगल लिया था उन्होंने मुझे कहा मुझे बहुत ही अच्छा लगा। मैंने उन्हें कहा मामी जी आपकी गांड बड़ी मोटी है आपकी गांड के अंदर मैं लंड को डाल सकता हूं। उन्होंने कहा क्यों नहीं उन्होंने अब अपनी गांड को मेरी तरफ किया और अपनी गांड को उन्होंने अपने हाथों से खोला। मैंने उनकी गांड के छेद के अंदर अपने लंड को लगाकर अंदर की तरह धकेलना शुरू किया तो मेरा मोटा लंड उनकी गांड के अंदर चला गया। मेरा लंड उनकी गांड मे जाते ही वह बड़ी जोर से चिल्लाने लगी और मुझे बहुत अच्छा लगा। मैंने उन्हें तेजी से धक्के मारना शुरू कर दिए वह अपनी चूतड़ों को मुझसे मिलाए जा रही थी और उनकी गांड की गर्मी बढ़ती जा रही थी। उन्होंने मुझे कहा तुम और भी तेजी से मुझे धक्के मारो मैंने उन्हें कहा मामी जी आपकी गांड मुझे बहुत टाइट महसूस हो रही है। वह कहने लगी मुझे बहुत अच्छा लग रहा है और मैंने उन्हें काफी देर तक ऐसे ही धक्के दिए मेरा लंड पूरी तरीके से छिल चुका था जब मेरा वीर्य उनकी गांड के अंदर गिरा तो वह मुझे कहने लगी आज मुझे बहुत मजा आ गया। उसके बाद तो मैं भी बहुत ज्यादा खुश हो गया था मामी जी जितने दिनों तक हमारे घर पर रही उतने दिन तक हम लोगों ने सेक्स के जमकर मजे लिए।

Best Hindi sex stories © 2017
error:

Online porn video at mobile phone


maa ko chodaantarvasna sex videochachi ko chodagandi kahanidesi hindi sexhot sex storyhot sex storiesaunties sexxxx story in hindiantarvasna hindi photosexy kahaniakamasutra xnxxamerica ammayi ozeeindiansex storiesrakul sexbest indian pornhindi antarvasna ki kahanihindisexstoryantarvasna imageschahat moviebhabhi antarvasnadesichudaisecretary sexantarvasna sexi storiantarvasna chudai kahaniantarvasna bfaunt sexchudai ki khanisex story in englishantarvasna mp3 storysexbfstory in hindihotel sexmaid sex storiesantarvasna chudai kahanisex khaniya?????? ????? ???????antarvanasheela ki jawanidesi real sexbrutal sexgroup xxxchudai kahaniyadeshi chudaiantarvasna hindi inantarvasna com new storyantarvasna story with photoantarvasna hindi fontmom son sex storieslesbo sexaunty ki chudaiantarvasna pdfdesi sexy storiesmommy sexaunty sex photossexy story in hindiantarvasna big picturesex bhabhifree hindi sex storyantarvasna kahani in hindiseduce meaning in hindix antarvasnahindi antarvasnahindi sex story antarvasna comkajal hot boobsenglish sex storyantarvasna hindi momwww.antarvasnaantravasna storycollege dekhoantarvasna 2013antarvasna chachi bhatijaantarvasna bhai bhansex stories in englishmiruthan movieindian lundantarvasna saxsaree aunty sexaunty sex storiessavita bhabhi latestindian sex stories.comnaga sexhindi sex storesex stories indialand ecsabita bhabhichut ki chudaiantarvasna video youtube