Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

मेरे गोरे गोलमटोल बूब्स-2

hindi sex kahani अब वो अपने कामों को कर रहे थे, अंकल देर ना करते हुए मेरे बूब्स को ज़ोर से दबाने लगे थे जिसकी वजह से अब मेरी वो भूरे रंग की मोटी निप्पल एकदम टाईट हो चुकी थी। अब अपने मुहं में लेकर कुछ देर तक लगातार चूसते रहे, जिसकी वजह से थोड़ी देर के बाद अब मुझे भी धीरे धीरे जोश के साथ साथ मज़ा भी आने लगा था। फिर मैंने भी जोश में आकर अपने मुहं से आह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह की आवाज करनी शुरू कर दी और मैंने अपने दोनों पैरों को पूरा फैला दिया। फिर वो मेरे बूब्स का पीछा छोड़कर उसी समय मेरी चूत के पास पहुंचकर पहले उसको सहलाने और उसके बाद उसको अपनी जीभ से चाटने भी लगे थे। फिर अंकल ने बहुत ही जल्दी अपनी पूरी जीभ को मेरी कुंवारी चूत के अपने एक हाथ से पंखुड़ियों को पूरा फैलाकर चूसना शुरू किया, जिसकी वजह मेरा जोश पहले से ज्यादा बढ़ गया और मेरे मुँह से अब वो आवाज़ तेज होकर बाहर निकल गई। अब मेरे मुहं से सस्शह आअहह आईईईई अंकल हाँ ऐसा ही थोड़ी देर और करो ना वाह मज़ा आ गया और वो मेरी आवाजे सुनकर तुरंत समझ गए कि में अब पूरी तरह से गरम हो चुकी हूँ। अब मुझे अंकल का मेरी चूत को चूसना चाटना बहुत अच्छा लगा रहा है और इसलिए उसने थोड़ी देर और वैसा ही किया और कुछ देर बाद अंकल ने पहले मेरी चूत में अपनी एक ऊँगली को अंदर बाहर करना शुरू किया।

फिर उसके बाद अब अपनी पूरी जीभ को मेरी चूत के अंदर तक डाल दिया और वो अब पूरे मज़े लेकर चाटने लगे थे और अब में हल्का सा दर्द और जोश मज़े की वजह से अपने पास में रखे एक तकिये को दबा रही थी। फिर उन्होंने अपने लंड पर तेल लगाकर उसको एकदम चिकना कर दिया और वो लंड को मेरी गांड के पास लाकर उसके ऊपर घिसते हुए मुझे मेरे होंठो को चूमने लगे थे, जिसकी वजह से मेरी ज्यादा ज़ोर से चिल्लाने आवाज मेरे मुहं से बाहर ना निकले। फिर उन्होंने सही मौका देखकर अपने लंड को मेरी चूत के मुहं पर रखकर ज़ोर ज़ोर से दो चार धक्के मारकर मेरी चूत में डाल दिया। दोस्तों में वर्जिन थी, इसलिए मेरी चूत बहुत कसी हुई थी, में पहली बार के धक्को से मर गई, क्योंकि उसका लंड तो पूरा पांच इंच लंबा और तीन इंच मोटा भी था। फिर जब मेरी कामुक गुलाबी चूत में अपना पहला धक्का मारा, जिसकी वजह से लंड का टोपा अंदर चला गया, लेकिन उसने मेरी चूत को अंदर ही अंदर ऐसा दर्द दिया जैसे किसी ने मेरी चूत को चीरकर फाड़ दिया हो। अब में उस दर्द की वजह से चिल्ला पड़ी आईईई माँ में मर गई उफ्फफ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह प्लीज धीरे डालो मुझे बहुत दर्द हो रहा है, उस समय मेरे मुहं से यह शब्द बाहर निकले, लेकिन अंकल ने मेरी एक भी बात ना सुनी और अपना दूसरा धक्का भी मार दिया।

दोस्तों तब मुझे ऐसा लगा जैसे कि अब मेरी जान ही निकल गई। में उस दर्द की वजह से बड़ी ज़ोर से चीख पड़ी ऊऊईईईई आह्ह्हह् अंकल तुम क्या पागल हो? ऊह्ह्ह क्या तुम्हे मेरा दर्द नहीं दिखता आह्ह्ह् में दर्द से मरी जा रही हूँ और तुम धक्के पे धक्के दिए जा रहे हो और उतने में अंकल ने अपनी तरफ से एक और झटका लगा दिया, जिसकी वजह से वो पूरा लंड मेरी चूत के अंदर चला गया और मेरी तो आहह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ में क्या बताऊँ क्या हालत उस समय थी? में किसी भी शब्दों में लिखकर नहीं बता सकती। दोस्तों उस समय मुझे अंकल ने मार ही डाला था और में उस दर्द को अब और नहीं सह सकती थी, में ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ लेकर वैसे ही चिल्लाकर धक्के देने के लिए मना करती रही। अब उसने अपनी तरफ से धक्के देना बंद करके मुझे समझाते हुए कहा कि तुम्हारे साथ यह सब आज पहली बार हो रहा है, इसलिए यह दर्द तुम्हे कुछ देर तक जरुर होगा, लेकिन उसके बाद में तुम्हे भी मेरे इन धक्को से मज़ा आने लगेगा। फिर मुझसे यह बात कहकर अब अंकल ने अपने लंड को अंदर बाहर करना शुरू कर दिया और में उस दर्द की वजह से मरी जा रही थी। हर एक धक्के से मेरे मुहं से आह्ह्ह्ह शईईईई नहीं उफफ्फ्फ्फ़ अब बस करो शब्द निकल रहे थे। में दर्द की वजह से ज़ोर ज़ोर से चिल्ला, चीख रही थी

फिर उस दिन उस दमदार धक्को के साथ मेरी उस पहली चुदाई ने मेरी चूत की सील को तोड़ दिया था और इसलिए मुझे अब दर्द के साथ साथ मेरी चूत से खून भी बाहर निकला नजर आया और जिसकी वजह से मेरे जोश अब बिल्कुल ठंडे हो चुके थे। फिर उसने करीब दस मिनट तक और मेरे ऊपर चढ़कर ताबड़तोड़ धक्के देकर चुदाई की और उसके बाद अंकल ने अपने लंड को मेरी चूत से बाहर निकालकर मुझसे कहा कि तनु मुझे अब तेरी यह गांड मारनी है। फिर में उनको पूछने लगी क्यों? तब वो कहने लगे कि गांड मारने में बहुत मज़ा आता है, मुझे उसके भी आज पूरे मज़े लेने है और अब में भी अपना दर्द भुलाकर अंकल का साथ दे रही थी। अब मैंने उनको कहा कि यहाँ मुझे बहुत दर्द होगा, क्योंकि यह मेरा पहला अनुभव है। फिर अंकल ने कहा कि नहीं बस थोड़ा सा दर्द होगा और उसके बाद बस मज़ा ही मज़ा और इतना कहकर अब अंकल के मेरी गांड और अपने लंड पर बहुत सारा तेल लगा दिया, जिसकी वजह से अंकल का लंड, मेरी गांड दोनों बिल्कुल चिकने होकर चमक गए और अब वो धीरे धीरे धक्के देकर मेरी गांड में अपने लंड को अंदर डालने लगे थे। दोस्तों अब वो लंड बहुत मुश्किल से मेरी गांड में जा रहा था, लेकिन वो थोड़ा सा अंदर जाने के बाद फिसलता हुआ अब अंदर जाने लगा था।

फिर अंकल ने एक ज़ोर का झटका देकर एक ही बार में अपना पूरा का पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया और में दर्द की वजह से इतनी ज़ोर से चिल्लाई और में सिसकियाँ लेने लगी, आह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ अंकल प्लीज अब आप यहाँ पर मत करो स्सीईईईई मुझे पहले से ज्यादा दर्द हो रहा है ऊईईई माँ में मर जाउंगी, प्लीज अब बंद करो, लेकिन वो नहीं माना और वैसे ही वो मुझे झटके मारने लगा। अब में बहुत अच्छी तरह से समझ चुकी थी कि अंकल मुझे आज मेरी चुदाई किए बिना ऐसे नहीं छोड़ने वाले और मुझे अब इतना ज़ोर का दर्द हो रहा था कि उसकी वजह से मेरी आँखो से आँसू भी अब बाहर निकल गये थे। अब मेरी गांड से खून भी निकल रहा था और इतना सब हो जाने के बाद भी उसने मुझे नहीं छोड़ा और वो लगातार मुझे ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर चोदते रहे। फिर कुछ देर बाद मुझे बिल्कुल सीधा लेटाकर अंकल ने मेरी कमर के नीचे एक तकिया रख दिया, जिसकी वजह से मेरी चूत ऊपर उठकर खुल गई और अब मेरी चूत में दोबारा अपना लंड डालकर तेज तेज धक्के मारने शुरू किए। अब में दर्द से मरी जा रही थी और में चिल्लाना चाह रही थी, लेकिन उन्होंने उस समय मेरा मुहं अपने एक हाथ से बंद कर दिया था और वो धक्के देने के साथ मेरे बूब्स को भी सहलाते रहे।

फिर वो धीरे धीरे अपने लंड को मेरी चूत में अंदर बाहर करने लगे, धीरे धीरे मुझे भी अब मज़ा आने लगा था और में भी उछल उछलकर अपनी चूत में उनका लंड लेने लगी थी। फिर उसी समय अंकल ने मुझसे पूछा क्यों तुम्हे मज़ा आ रहा है ना तनु? मैंने कहा कि हाँ अंकल अब सब कुछ ठीक है, मेरा दर्द पहले से बहुत कम हो चुका है और फिर उन्होंने मुझे लगातार करीब आधे घंटे तक चोदा, वो कभी अपने लंड को मेरी गांड में तो कभी चूत में डालकर जगह बदल बदलकर धक्के दिए जा रहे थे। फिर मुझे उन्ही धक्कों के बीच अचानक से महसूस हुआ कि उनके लंड ने मेरी गांड में अपना वो गरम वीर्य निकाल दिया है, जिसको महसूस करना मेरे लिए बड़ा ही अच्छा अनुभव था और उसके कुछ देर बाद जब वो धक्के देकर थक गये। अब वो मुझसे बोले कि अब तुम थोड़ा सा आराम कर लो और इतना कहकर वो अपना लंड बाहर निकालकर मुझसे दूर हट गए। अब में वैसे ही बिना कपड़ो के पलंग पर पड़ी हुई आराम करने लगी, तुरंत ही मेरी आंख लग गई और फिर मैंने देखा कि करीब दस मिनट के बाद अंकल ने मेरे पीछे से मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और वो मुझे गरम करके दोबारा चोदने के लिए तैयार कर रहे थे।

अब वो अपने लंड को वैसे ही लेटे हुए मेरी चूत में कुछ देर धक्के देते रहे और उस रात को उन्होंने मुझे चार बार चोदा और हर बार मुझे दर्द के साथ मज़ा ज्यादा आया, जिसकी वजह में अब उनका पूरा पूरा साथ देने लगी थी और वो खुशी खुशी मेरी चुदाई करते रहे, क्योंकि दोस्तों पहली बार लंड लेने के समय जो मुझे दर्द था वैसा अब नहीं था। दोस्तों वो मोटा लंबा लंड मेरी चूत और गांड को अपने अंदर जाने जितना फैला चुका था, मेरी चूत अब चूत नहीं भोसड़ा बन चुकी थी। फिर सुबह उठकर मैंने अपने पूरे जिस्म को बाथरूम में जाकर पानी से साफ किया और उसी समय मैंने अपनी चूत गांड को छूकर महसूस किया। वो दोनों रात को चली उस चुदाई से सूज चुकी थी। फिर कुछ देर बाद में बाथरूम से वापस बाहर आकर पलंग पर लेट गयी। अब अंकल उसी समय मेरे पास आकर मुझे चूमते हुए मेरे सर को सहलाते हुए मुझसे पूछने लगे कि तनु अब हमारा दोबारा ऐसा मिलन कब होगा? और कब मुझे दोबारा तुम अपनी ऐसी सेवा का मौका दोगी? जिसकी वजह से मेरा मन खुशी से ऐसे ही नाचने लगे। फिर मैंने हंसते हुए उनको कहा कि जब घर पर कोई भी नहीं होगा, तब में आपको बता दूंगी और मुझे कोई मौका मिलेगा, हम कहीं भी यह मज़े दोबारा जरुर करेंगे और फिर मेरे मुहं से यह बातें सुनकर वो बहुत खुश हो चुके थे, उन्होंने मुझे अपने गले से लगाकर मुझे चूमना शुरू किया और मैंने उनका साथ दिया।

दोस्तों इसके अलावा भी मेरी एक और सच्ची चुदाई की कहानी है, वो में आप सभी को अपनी दूसरी कहानी में जरुर बताउंगी। दोस्तों क्योंकि यह मेरा पहला सेक्स अनुभव था और में अपनी उस पहली चुदाई को कभी नहीं भुला सकती हूँ, लेकिन हाँ उसके बाद तो जैसे मेरी चुदाई का सिलसिला शुरू ही हो गया था, क्योंकि पहली बार चुदाई करने के बाद अब तो अंकल चार पांच दिनों में एक बार मेरे पास ज़रूर आते और वो जमकर मेरी चुदाई किया करते है, जिसकी वजह से हम दोनों खुश रहते है और अब तो मुझे भी उनके साथ चुदाई करने में बड़ा मज़ा आने लगा था, क्योंकि मुझे उनका लंड लेने की एक आदत सी हो चुकी है ।।

धन्यवाद …

Best Hindi sex stories © 2017
error:

Online porn video at mobile phone


hindisexstorynew antarvasna 2016hindipornhot antiesww antarvasnaantarvasna desisexy hindi story antarvasnameri maasasur antarvasnachudayisheila ki jawaniactress sex storiessex story antarvasnadesi lesbian sexchudai kahaniyalatest sex storiesnew hot sexindia sex storiesantarvasna newblue film hindisexy story in hindisex cartoonsfree hindi sex storyantarvasna hindi sex khaniantarvasna vantarvaasnabadihot chudaihot sex storyantarvasna chudai ki kahanisex kahani hindiantarvasna samuhikchudai kahanisex storyssex stories indiaantarvasna vedios????hindi kahaniyasex storyantarvasna sexy hindi storyantarvasna com hindi kahaniantarvasna in hindi storyantarvasna new 2016bhai bahan sexindian sex desi storiesjugadantarvasna sex hindi kahaniantarvasna with photosindian anty sexsex bhabhiantarvasna new comgay desi sexsex with uncleantarvasna hindi sex storiesbur ki chudaiantarvasna samuhik chudaihindi sexy kahaniya?????antarvasna chudai videoindian cartoon sexantarvasna samuhikdidi ki antarvasnatmkoc sex storysexy bhabisex antysaurantarvasna.khet me chudaiantarvasna jokesantatvasnafree desi blogantarvasna video youtubeantarvasna picsgandi kahanixxx in hindinaukrwww antarvasna coma?????choot ki chudaibalatkarnew antarvasnadevar bhabi sexindian group sextop indian sex sitesdesi xossipantarvasna movieboobs sexsex stories indiansex antymarathi antarvasna storybhabi ki chudai